Electric charging stations information in hindi

electric charging station
Electric charging station

इलेक्ट्रिक कार और बाइक भारत में अपनी जगह बनाना शुरू कर चुकी है । वही बहुत सारी कोपनियों ने अपने electric charging stations लगाने शुरू कर दिए है। इन इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन की जानकारी आपको होना बहुत जरूरी हो जाता है।

Contents hide

इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन टाइप (electric charging station types) –

अगर हम इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन की बात करें तो इसक मुख्य 3 टाइप होते हैं –

लेवल 1 (Level 1) चार्जिंग स्टेशन-

ये चार्जिंग स्टेशन मुख्य रूप से बाइक के लिए होता है। इस चार्जिंग स्टेशन को आप अपनी कार के लिए इस्तमाल नहीं कर सकते है। यह चार्जिंग स्टेशन आपको 3KW पॉवर देता है।

यह चार्जिंग स्टेशन इलेक्ट्रिक बाइक के साथ मिलने वाले चार्जर की जैसा ही काम करता है। इस चार्जिंग स्टेशन से बाइक को चार्ज करने के लिए 15 घंटे तक का समय लग सकता है।

लेवल 2 ( Level 2) चार्जिंग स्टेशन-

यह चार्जिंग स्टेशन ac और dc current के लिए इस्तमाल होता है। यह चार्जिंग स्टेशन आप अपने कार के लिए इस्तमाल कर सकते है। इस चार्जिंग स्टेशन की बात करें तो ये आपके कार को 50KW से लेकर 300KW पॉवर दे सकता है।

इस चार्जिंग स्टेशन में एक सर्किट फिट होता है जो की पहले गाड़ी को कितनी पॉवर से चार्जिंग करना चाहिए ये पता करके ही उसे उतनी पॉवर का चार्जिंग प्रधान करता है। इस चार्जिंग स्टेशन से कार फुल चार्ज होने के लिए 4-5 घंटे लगाती है।

लेवल 3 (लेवल 3) चार्जिंग स्टेशन-

यह चार्जिंग स्टेशन dc current गाड़ी को देते है और यह चार्जिंग स्टेशन सीधे कार के बैटरी से जुड़कर चार्जिंग कर देते है। इन चार्जिंग स्टेशन का गाड़ी के चार्जिंग सर्किट से कोई संबंध नहीं आता ( by pass circuit)।

यह चार्जिंग स्टेशन आपके गाड़ी को बहुत तेजी से चार्ज कर सकते है। इस चार्जिंग स्टेशन पर कार को फुल चार्ज होने के लिए 15 मिनट से भी कम का समय लग सकता है।

इस चार्जिंग स्टेशन पर कार को हमेशा चार्ज करना आपको फास्ट चार्जिंग तो दे सकता है लेकिन आपके कार की बैटरी की लाइफ कम कर सकता है।

चार्जिंग स्टेशन के चार्जिंग प्लग ( charging plug used in charging stations) –

Electric charging plug
Electric charging plug

अगर आप चार्जिंग स्टेशन पर चले गए तो आपको बहुत सारे चार्जिंग प्लग दिखाई दे सकते है। इन प्लग को पहचान कर आप आपकी बाइक या कार कौनसे चार्जिंग स्टेशन से और कौनसा प्लग इस्तमाल करके चार्ज हो सकती है ये जान सकते है।

टाइप 1 (type 1) चार्जिंग प्लग –

Electric charging plug
Image credit- Paul Salden

यह प्लग single phase के लिए इस्तमाल होता है। यह प्लग लेवल 1 चार्जिंग स्टेशन के लिए होता है। यह प्लग 7.4 KW तक स्पीड से चार्जिंग कर सकता है।

टाइप 2 (type 2) चार्जिंग प्लग –

Electric charging plug
Image credit – Paul Salden

अगर टाइप 2 प्लग की बात करे तो ये प्लग 3 phase के लिए इस्तमाल होता है। यह प्लग सभी कार में और कुछ कुछ बाइक में लग सकता है।

यह चार्जर 43 KW तक पॉवर दे सकता है, जोकी बाइक के लिए बहुत अच्छा है लेकिन कार को इससे चार्ज करने के लिए 1 दिन तक लग सकता है।

CCS चार्जिंग प्लग ( combined charging system plug) –

Electric charging plug
Image credit- Danilo Bargen

CCS प्लग AC और DC current चार्जिंग के लिए इस्तमाल होता है। यह चार्जिंग प्लग कार के लिए इस्तमाल होता है जो की कार को AC current (लेवल 2)पर 4 घंटे में और DC (लेवल 3) चार्जिंग स्टेशन होने पर 15 मिनट से भी कम समय में फुल चार्ज कर सकता है।

आखिर चार्जिंग स्टेशन 1 फुल चार्जिंग के कितने पैसे लेता है? ( charging cost on electric charging station) –

चार्जिंग स्टेशन पर चार्जिंग की बात करे तो हर एक कंपनी चार्जिंग करने के लिए अलग अलग पैसे ले सकती है। ये कीमत अलग अलग राज्यों में अलग हो सकती है।

समय के अनुसार चार्जिंग के पैसे लेना –

इस प्रकार में आपने जितने समय तक चार्जिंग आपके बाइक या फिर कार को लगाया होगा उतने आपको पैसे देने होंगे। चार्जिंग प्रति घंटे की कीमत फिक्स होगी। हम इसे एक उदाहरण से समझाने की कोशिश करते है –

अगर आपकी कार आपने 3 घंटे के लिए चार्जिंग लगाई और चार्जिंग प्रति घंटे की कीमत 20 रूपए है तो आपको चार्जिंग के लिए 3×20=60 रूपए लग सकते है।

लेकिन अगर हम इलेक्ट्रिक कार की बात करे तो 80% चार्जिंग होने के बाद सभी कार स्लो चार्ज होती है, क्योंकि 80% चार्जिंग पर इलेक्ट्रिक कार के बैटरी में इस्तमाल होने वाला लीथियम गरम होने लगता है तो उसे स्लो चार्जिंग देश ही आवश्यक है। तो इस टाइप के चार्जिंग स्टेशन में आपको थोड़े ज्यादा पैसे लग सकते है

बिजली के इस्तमाल पर पैसे चार्ज करने वाले स्टेशन-

इस टाइप के चार्जिंग स्टेशन आपने कितनी बिजली इस्तमाल की उसके आपसे पैसे ले सकती है। इस टाइप में आपको बिजली के यूनिट प्रति चार्ज पर पैसे लिए जाएंगे।

उदाहरण- अगर बिजली के 1यूनिट का दाम 5 रुपए है और आपने 20 यूनिट बिजली इस्तमाल की तो आपका बिल 20×5=100 रूपए होगा।

चार्जिंग स्टेशन रिचार्ज –

जिस तरह हम अपने मोबाइल को रिचार्ज करते है, उसी तरह application का उपयोग कर के हम महीने का रिचार्ज कर के हम गाड़ी चार्ज कर सकेंगे।

इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन को कैसे ढुंडे? (How to find nearest electric electric charging station?) –

अगर हम चार्जिंग स्टेशन देखे तो हमें अभी टाटा (tata) और फोरम( forum) के चार्जिंग स्टेशन देखने को मिलते है।

गूगल पर ढुढंना –

अगर हम गूगल पर इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन नियर मी (electric charging station near me) डाले तो हम हमारे नजदीक का इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन ढूंढ सकते है।

टाटा पॉवर app (tata power app) –

टाटा पॉवर के चार्जिंग स्टेशन हम उनके app पर ढूँढ सकते है और इस app पर हम पैसे भरकर चार्जिंग स्टेशन पर स्कैन करके गाड़ी को चार्ज कर सकते हैं।

2 thoughts on “Electric charging stations information in hindi”

  1. Pingback: टॉप २५ इलेक्ट्रिक कार शेअर 2021 | electro-motors.com

  2. Pingback: टाटा नेक्सन ईवी जानकारी | electro-motors.com

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *